Search

सुचना अधिकारी ने कानून और संविधान मनने से किया इनकर।

नीचे पोस्ट एडवोकेट सरदार ताराचंद ने लिखा है। चुरू राजस्थान के राजकीय माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक श्री रामप्रताप का कहना है कि वह भारत का संविधान एवं किसी भी विधान को नहीं मानता.


देखिये एक ऐसी लोकनोचक की दबंगई खुत्ते शब्दों में एक नागरिक को बिजली के ट्रांसफार्मर से चिपक कर आत्महत्या करने को उकसा भी रहा है और खुले शब्दों में कह रहा है कि उसपर भारत का संविधान और कोई भी कानून लागू नहीं होता है। खुले शब्दों में कहा रहा है कि यह ना तो किसी किसी कानून को मानता है और ना ही अपने किसी भी अधिकारी के किसी भी आदेश को मानेगा को मानेगा। सम्पूर्ण वार्तालाप को सुनिए और देखिये कि लोकसेवक किस कदर मगरूर और बेखौफ है कि उनको देश के संविधान तक की कोई फिक्र नहीं लेकिन... जनाब यह भूक गए कि जो संविधान और देश के विधान में आस्था नहीं रखता और खुलेआम इसकी संस्वीकृति करता हो वह राष्ट्रद्रोह करता है।


चूंकि लिस अधिकारी ने इस बाबत इन महाराय को आदेश देकर जवाब देने को कहा था उन जनाब श्री बजरंगलाल सैनी जी को लिखित में शिकायत/परिवाद देकर इन जनाब के विरुद्ध कार्यवाही संस्थित करने को लिखा गया है... देखते हैं कि इनके वरिष्ठ अधिकारी भी कानून पाते है.


87 views2 comments

Recent Posts

See All

यदि RTI के तहत आपको वांछित सूचना नहीं मिल पाई? सूचना आयोग ने भी आपको समुचित राहत नहीं दी बल्कि आपकी अपील को ही खरिज कर दी? तो निराश मत होईये, एक बार आप विजिट करे *www.legalambit.org* आप सूचना मांगने

सूचना_अधिकार_अधिनियम_2005_की_हत्या_का_प्रयास? मित्रों देश की आजादी के बाद सन 2005 में सूचना का अधिकार अधिनियम लागू हुआ जिसके बाद जागरूक नागरिकों ने इस अधिनियम से प्राप्त अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर स